साजिश: प्रीत कौर (पालकी) कभी अपने घर से लापता ही नहीं हुई थी

प्रीत कौर पालकी की तस्वीरें इन दिनों सोशल नेटवर्किंग साइट और खासतौर पर फेसबुक पर काफी सुर्खियां बंटोर रही है। रोजाना उसकी तस्वीर को सैकड़ों लोग टैग कर रहे है तो काफी शेयर भी किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि पालकी सात जून से अमृतसर स्टेशन से लापता है। उसके फोटो के साथ कहा गया है कि इस फोटो को न तो लाइक किया जाए और नहीं किसी तरह का कोई कमेंट बल्कि जितना हो सके इस फोटो को शेयर करने की गुजारिश की जा रही है, जिससे यह बच्ची उसके माता पिता को मिल जाए।

Preet Kaur Palaki Missing Found

सोशल नेटवर्किंग साइट पर यह पोस्ट वायरल है… मीडिया और बुद्धिजीवी के अलावा सामाजिक कार्य से जुड़े और युवा इस पोस्ट को शेयर कर रहे हैं… बगैर सोचे समझे की वो जिस पोस्ट को शेयर कर रहे वो फर्जी है… फेसबुक पर जुड़े कुछ लोगों ने जब इस पोस्ट को शेयर करना शुरू किया तो न जाने क्यों शक हुआ कि यह फोटो और पोस्ट फर्जी हो सकती है। इसकी वास्तविकता जानने के लिए मैंने सर्च करना शुरू किया… शुरूआत में पता चला कि यह पालकी पिछले साल जनवरी में लापता हुई थी और कुछ ही दिन बाद वो पंजाब के ही एक शहर में मिल गई।

इसी जानकारी के आधार पर जब आगे सर्च किया गया तो एक लिंक मिली जिसमें उसके मिलने और फेसबुक की सक्सेस स्टोरी का जिक्र था। इस लिंक पर पहुंचने पर पता चला कि दरअसल, पालकी कभी अपने घर से लापता ही नहीं हुई थी। बल्कि यह सायबर अपराध से जुड़ा मामला है जिसमें इस बच्ची के फोटो को गलत तरीके से चुराया गया और फिर उसके फोटो को मार्फ कर उसके गायब होने की फोटो को फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल माध्यमों पर जमकर प्रचारित किया गया। मूल रूप से पंजाब और फिलहाल कनाड़ा में रहने वाली जगदीप कौर ने पिछले साल जुलाई में फोटो के फर्जी होने का जिक्र फेसबुक पर किया था।

इस फोटो के फर्जी होने या उसे गलत तरीके से शेयर करने के दावें के पीछे एक पुख्ता वजह और है। दरअसल, यदि आप इस फोटो को क्लिक कर एक लिंक से दूसरी लिंक पर जाएंगे तो अंत में आप पाएंगे कि यह एक स्पैम है। जो लोग इंटरनेट को कम जानते है उनके लिए स्पैम, “स्पैम उस प्रकार के ईमेल को कहते है जो थोक में भेजा जाता है ,बिना मांगे या बुलाये आ जाता है , जिसमे प्राय विज्ञापन भरे होते है। स्पैम भेजने के लिए पते चैटरूम से, वेब साईट से या वायरस के प्रयोग से एकत्र किए जाते है। यदि आप उन्नत ब्राउजर इस्तेमाल नहीं करेंगे तो हो सकता है कि इस तस्वीर के जरिए आप भी वायरस की चपेट में आ जाए।

इस फोटो को लेकर जिज्ञासा यहीं खत्म नहीं हुई। जब इस फोटो में लिखें नंबर 9718911284 को इंटरनेट पर तलाशा तो पता चलता है कि यह पालकी या उसके किसी परिवार से जुड़ा नंबर नहीं है। जस्ट डायल के मुताबिक यह नंबर पश्चिम दिल्ली में लाल किताब विशेषज्ञ की है। लाल किताब ज्योतिष से जुड़ा हुआ मामला है।

यह पहला मामला नहीं है जब सोशल नेटवर्क पर इस तरह किसी पोस्ट को लाखों यूजर ने बगैर सोचे समझे शेयर किया हो। पहले भी ऐसा होता रहा है लेकिन बावजूद इसके कोई समझने के लिए तैयार नहीं है कि वो किस तरह इंटरनेट पर वायरस और स्पैम की साजिश का शिकार हो रहा है। इस पोस्ट का उद्देश्य किसी को गलत बताना या गलत ठहराना नहीं है बल्कि जागरूक करना है।

Advertisements

10 thoughts on “साजिश: प्रीत कौर (पालकी) कभी अपने घर से लापता ही नहीं हुई थी

  1. tx manoj bhai ….aapne mahtvapurna jankari di saath hi patrakarita ka sahi dharm bhi nibhaya na sir uiss ki taha tak pahuche saath ho logo ko bhi saavdhaan kiya iss cyber crime ke bare me ………..

  2. Manoj ji bahut bahut shukriya is jankari ke liye….Ab us bacchi ke photo ki jagah apka ye Article logo ke sath share karna aur un tak jankari pahunchana bahut jaruri hai…..apne iske baaren me khoj bin karne ke baad yeh nishkarsh diya uske liye bahut dhanyawaad.

  3. bilkul sahi hai shayad aapko yad hoga dehli ki damini ki farji tasveer bhi isi tarah parosi ja rahi thi. well aapka najariya hi hai jo sach ko samne lata hai. us waqt bhi kuch aisa hi tha

  4. Thanks Manoj for this update…meri hindi todhi kachi hai but aapke is blog ko padne ke baad aur ek incident mere dyan me aaya hai jo ki haali mein facebook mein share kiya jaa raha hai…”possible” child grabber ke naam…kisine video upload kiya hai….kya aap ko uske baremein kuch pata hai..i mean woh bhi isse tarah ki kuch fwds hai ya there is some realty to it……

  5. Thnx sir 4 ds nws , I ws realy worried alot fr hr bt nw I m relaxed to knw dat she is in safe hands n probably wd hr parents. god bls u

  6. thank god I saw that. I was really worried and did shared. now deleted it from my time line. gr8 to know grl is safe

  7. Pingback: Preet Kaur (Palki) Missing: Hoax - Hoax Or Fact

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s